Breaking News
Home / Uttarakhand News / इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स और पेटेंट ड्राफ्टिंग टेक्निक्स पर कार्यशाला आयोजित

इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स और पेटेंट ड्राफ्टिंग टेक्निक्स पर कार्यशाला आयोजित

देहरादून । तुलाज़ इंस्टिट्यूट ने कॉलेज परिसर में इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स और पेटेंट ड्राफ्टिंग टेक्निक्स पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया। कार्यशाला का आयोजन उत्तराखंड कॉउन्सिल ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी देहरादून और तुलाज़ टेक्नोलॉजी एंड बिज़नेस इनक्यूबेटर फाउंडेशन के तत्वावधान में किया गया।
कार्यक्रम के दौरान तुलाज़ इंस्टिट्यूट के निदेशक प्रोफेसर संदीप विजय द्वारा स्वागत भाषण दिया गया। कार्यशाला के पहले दिन सीनियर प्रोग्राम मैनेजर, इनोवेशन, हेड स्टार्ट फाउंडेशन, मुकेश केस्टवाल ने श्एसेंस ऑफ़ आईपी इन स्टार्ट-उप  एंड एंटरप्रेन्योरशिपश् पर एक सत्र आयोजित किया। इसके बाद सीईओ, एनोबल आईपी, डॉ श्वेता सिंह द्वारा श्टाइप ऑफ़ इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स कंसल्टेंसी एंड सर्विसेजश् विषय पर सत्र का आयोजन हुआ। कार्यशाला के दूसरे दिन के दौरान, वरिष्ठ पेटेंट अटॉर्नी, के एंड एस पार्टनर गुड़गांव, सोनाली मेवाड़ द्वारा आईपी ड्राफ्टिंग और केस स्टडी पर सत्र प्रस्तुत किए गए। बाद में दिन के दौरान एक और सत्र का संचालन श्वेता सिंह द्वारा किया गया। कार्यशाला के आखिरी दिन पर, आईपी एंड इट्स स्कोप विथ नेशनल एजुकेशन पालिसी पर एक सत्र का संचालन पेटेंट महानियंत्रक, प्रोफेसर उन्नत पी पंडित द्वारा किया गया, जो जेएनयू में प्रोफेसर आईपी और इनोवेशन का पद भी संभालते हैं। सोनाली द्वारा हैंड्स-ऑन आईपी ड्राफ्टिंग और केस स्टडी पर एक सत्र प्रस्तुत किया गया। तीन दिवसीय कार्यशाला ने छात्रों को आईपीआर और पेटेंट ड्राफ्टिंग तकनीकों में उपयोगी अंतर्दृष्टि प्रदान करी, जो उनके संबंधित डोमेन की अनुसंधान क्षमता को बढ़ाने में मदद करेगी। कार्यशाला के दौरान, रजिस्ट्रार प्रोफेसर पवन कुमार चौबे, डीन एकेडमिक्स डॉ. निशांत सक्सेना, निदेशक आईक्यूएसी डॉ. एम.के. अरोड़ा, डीन एग्रीकल्चर एंड मैनेजमेंट डॉ. रनित किशोर, डीन रिसर्च एंड डेवलपमेंट डॉ सुनील सेमवाल, आर एंड डी समन्वयक डॉ त्रिपुरेश जोशी, एचओडी ईसीई और ईईई डॉ दिवाकर पंत, एचओडी एएसई पीयूष धूलिया, एचओडी एमई प्रदीप कोठियाल, एचओडी सीएसई डॉ लोकेश कुमार, टीपीओ वैभव कुमार मौजूद रहे।

Check Also

विद्यालयों में एकल शिक्षक व्यवस्था होगी समाप्त, प्रत्येक 15 दिन में होगी आंतरिक परीक्षा

प्रदेश सरकार ने प्रारंभिक शिक्षा की दशा सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। राजकीय …