Breaking News
Home / Uttarakhand News / सखी कार्यक्रम से जुड़ आर्थिक स्वावलंबन और सशक्तिरण से सफल हो रही महिलाएं

सखी कार्यक्रम से जुड़ आर्थिक स्वावलंबन और सशक्तिरण से सफल हो रही महिलाएं

पंतनगर । महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वांवलंबी बनाने, सशक्तिकरण और उनकी आजीविका संवर्धन हेतु संचालित सखी परियोजना से जुडी महिलाओं ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सखी उत्सव आयोजित किया। हिन्दुस्तान जिंक पंतनगर द्वारा मंजरी फाउण्डेशन के सहयोग से आयोजित इस सखी उत्सव में आस पास के क्षेत्र की 650 से अधिक ‘सखी‘ महिलाओं ने हर्षाेल्लास से भागीदारी की।
कार्यक्रम में पूर्व अस्सिटेंट प्रोफेसर राजीव रंजन ने महिलाओं का आव्हान किया कि वे धैर्य और आत्मविश्वास से स्वयं की पहचान बनाने के लिए बीडा उठाएं। उन्होंने कहा कि गृहिणी महिलाएं भी स्वयं की पहचान बना कर मुकाम हांसिल कर आत्मनिर्भर बने ताकि महिला और परिवार की आय में वृद्धि हो कर सुखी जीवन, बच्चों की शिक्षा और जिम्मेदारी को निभाने में अहम भूमिका निभा सकें। हिन्दुस्तान जिंक पतंनगर के यूनिटहेड हिमांशु छाबड़ा ने कहा कि हर्षका विषय है कि सखी महिलाएं एकजुट हो कर स्वयं की पहचान बना रही है जो कि एक उदाहरण है। उन्होंने महिलाओं से निरंतर आगे बढने एवं शिक्षा से जुड़ने का आव्हान किया। सखी उत्सव में अरुण कुशवाह ने कहा किमहिला सखी फेडरेशन की बचत में वृद्धि इस बात की परिचायक है कि ग्रामीण महिलाएं आत्मनिर्भर हो रही है। हिन्दुस्तान जिं़क महिला सशक्तिकरण और उत्थान के लिये कटिबद्ध है। सखी समूह आज उद्यमी बन कर उभरी है जो कि आर्थिक और सामाजिक सशक्तिरण का उदाहण है। मंजरी फाउंडेशन के सहयोग सेआयोजित इस कार्यक्रम के दौरान, सखी उमंग फेडरेशन की अध्यक्ष सुमन वैध ने कुल बचत एवं  ब्याज एवं ऋण आदि के संदर्भ में महासंघ के वित्तीय आंकडें़ प्रस्तुत किए। साथ ही ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने में स्वयं सहायता समूह की भूमिका की जानकारी दी। कार्यक्रम के दौरान महिलाओं द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियां और खेल जैसे कबड्डी एवं  चम्मच दौड़ एवं  कुर्सी दौड और रस्सा कस्सी का आयोजन किया गया। सखी महिलाओं को सखी परियोजना के तहत उनकी उपलब्धियों और उनके अनुकरणीय योगदान के लिए सम्मानित किया गया। अतिथियों ने महिलाओं के उत्साह और सांस्कृतिक प्रस्तुतियों की प्रशंसा करते हुए उनके द्वारा स्वयं और समाज के सशक्तिकरण हेतु किये जा रहे प्रयासो की सराहना की। अतिथियों ने सखी महिलाओं द्वारा निर्मित स्टाल का अवलोकन उत्पादों की जानकारी ली। कार्यक्रम में हिंदुस्तान जिंक सीएसआर विभाग के वि गोपी ,सेफ्टी हेड मोहन फर्तादे ,बेव अमरिस व महिला टीम  एवं मंजरी फाउंडेशन की टीम उपस्थित थे। इसके अतिरिक्त पंतनगर विश्वविद्याालय से प्रोफेसर, बैंक मनेजर व ग्राम प्रधान उपस्थित हुये। हिन्दुस्तान जिं़क द्वारा उत्तराखण्ड के पंतनगर एवं राजस्थान के 5 जिलों में सखी कार्यक्रम चलाया जा रहा है जिससे 2079 सखी समूहों से जुड़कर 27438 महिलाएं लाभान्वित हो रही है।

Check Also

विद्यालयों में एकल शिक्षक व्यवस्था होगी समाप्त, प्रत्येक 15 दिन में होगी आंतरिक परीक्षा

प्रदेश सरकार ने प्रारंभिक शिक्षा की दशा सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। राजकीय …