Breaking News
Home / uttarakhand / Uttarakhand Board Result: बेटियों ने फिर लगाई लंबी छलांग, इंटर में 85.38 और हाईस्कूल में 84.06 छात्राओं ने मारी बाजी

Uttarakhand Board Result: बेटियों ने फिर लगाई लंबी छलांग, इंटर में 85.38 और हाईस्कूल में 84.06 छात्राओं ने मारी बाजी

हाईस्कूल में इस बार 127895 विद्यार्थी शामिल हुए थे। इनमें छात्राओं की संख्या 62797 और छात्रों की संख्या 65095 थी। कुल 99091 परीक्षार्थी पास हुए हैं। इनमें 46301 छात्र और 52790 छात्राएं हैं। यानी कम संख्या होने के बाद भी छात्राएं अधिक पास हुईं।

बेटियों ने एक बार फिर अपनी बादशाहत बरकरार रखी है। उत्तराखंड बोर्ड के रिजल्ट में इस बार भी पास होने वाली छात्राओं की संख्या और उनका उत्तीर्ण प्रतिशत छात्रों से अधिक रहा है। हर जिले में छात्रों के मुकाबले छात्राएं ही अधिक संख्या में पास हुईं हैं।

हर बार छात्राएं रिजल्ट में शानदार प्रदर्शन करती रहीं हैं। इस क्रम को उन्होंने इस बार भी बरकरार रखा है। हाईस्कूल में इस बार 1,27,895 विद्यार्थी शामिल हुए थे। इनमें छात्राओं की संख्या 62,797 और छात्रों की संख्या 65,095 थी। कुल 99,091 परीक्षार्थी पास हुए हैं। इनमें 46,301 छात्र और 52,790 छात्राएं हैं। यानी कम संख्या होने के बाद भी छात्राएं अधिक पास हुईं। उत्तीर्ण प्रतिशत में भी बेटियों का दबदबा रहा। कुल उत्तीर्ण प्रतिशत 77.47 रहा। इसमें भी बाजी छात्राओं के हाथ लगी। छात्राओं का उत्तीर्ण प्रतिशत 84.06 रहा जबकि छात्रों का प्रतिशत 71.12 रहा।

इंटरमीडिएट में कुल 1,11,688 परीक्षार्थी शामिल हुए। इनमें छात्राओं की संख्या 57,300 और छात्रों की संख्या 54,388 थी। इनमें 48,924 छात्राएं पास हुईं जबकि 43,372 छात्र पास हुए। कुल उत्तीर्ण प्रतिशत 82.63 रहा। यहां भी छात्राओं का प्रतिशत अधिक रहा। छात्राओं का उत्तीर्ण प्रतिशत 85.38 और छात्रों का प्रतिशत 79.74 रहा।

हाईस्कूल: जिलेवार बेटियों का प्रदर्शन


जिला                  पास                     उत्तीर्ण प्रतिशत
                     छात्र        छात्राएं            छात्र छात्राएं
बागेश्वर      1704     1828          84.64      89.43
पिथौरागढ़     2676    2722            81.85        88.52
उत्तरकाशी     2091    2498            77.01        90.01
रुद्रप्रयाग      1683    1715            80.33        85.75
चमोली        2242    2550            72.93        88.38
चंपावत        1530    1658            77.42        82.48
पौड़ी           3202        3470        73.5            86.51
टिहरी            3612        4217        71.42        86.13
अल्मोड़ा        3274        3794        72.32        84.36
नैनीताल        3835        5048            68.5        85.38
हरिद्वार            8585         8894        70.27        82.21
श्रीनगर            7522        8477            67.54        80.68
देहरादून         4345        5919            61.5        80.33

इंटरमीडिएट: जिलेवार बेटियों का प्रदर्शन

जिला                  पास                     उत्तीर्ण प्रतिशत
                     छात्र        छात्राएं            छात्र छात्राएं
रुद्रप्रयाग        1943    1872        92.08    91.71
बागेश्वर            1641    1930    88.27    93.14
अल्मोड़ा            3506    4145    87.78    92.62
उत्तरकाशी        1933        2200    87.38    92.67
चंपावत            1527        1804    87.75        90.1
चमोली            2578        2830    83.86        89.86
पिथौरागढ़        2456        2626    81.24        89.25
पौड़ी                3886        4058        83.58    86.53
नैनीताल            3348        4440        80        86.21
टिहरी            3899        3965            82.99    83.1
यूएसनगर        5723        7201        47.72        83.09
हरिद्वार        7493        7181            73.56        82.5
देहरादून        3439        4672            69.16    74.51

वर्षवार छात्राओं का प्रदर्शन

वर्ष             10वीं         12 वीं
2010      72.68        82.36
2011        74.78        80.95
2012        76.10        83.44
2013        76.66        86.36
2014        73.66        77.64
2015        76.49        78.81
2016        76.54        83.14
2017        78.51        82.07
2018        80.22        82.83
2019        82.47        83.79
2020        82.65        83.63
2021        99.09        99.56

आज हर क्षेत्र में बेटियों का जलवा है। बेटियां लक्ष्य के प्रति समर्पित रहतीं हैं। वे मेहनत करतीं हैं। आगे बढ़ने का जो भी मौका मिलता है उसमें सफल होने के लिए पूरी निष्ठा, लगन और समर्पण के साथ जुट जातीं हैं। कई मौके ऐसे आए हैं जहां वे बेहतर रहे हैं।

Check Also

विद्यालयों में एकल शिक्षक व्यवस्था होगी समाप्त, प्रत्येक 15 दिन में होगी आंतरिक परीक्षा

प्रदेश सरकार ने प्रारंभिक शिक्षा की दशा सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। राजकीय …