Breaking News
Home / Uttarakhand News / देहरादून में कोरोना संकट के बीच दो और लोगों को डेंगू, पूरे शहर में की जा रही फॉगिंग

देहरादून में कोरोना संकट के बीच दो और लोगों को डेंगू, पूरे शहर में की जा रही फॉगिंग

नगर निगम के पास 200 फॉगिंग मशीनें हैं। सभी वार्डों को एक-एक मशीन दी गई है। जिन गलियों में बड़ी गाड़ियां नहीं जा पा रही हैं, वहां दोपहिया से फॉगिंग की जा रही है।

देहरादून में कोरोना संकट के बीच अब डेंगू के मामले भी आने शुरू हो गए हैं। माजरा में 38 वर्षीय महिला और डालनवाला में 16 वर्षीय किशोर में डेंगू की पुष्टि हो गई। किशोर हरिद्वार बाईपास और महिला पटेलनगर के अस्पताल में भर्ती हैं।

जिला मलेरिया अधिकारी सुभाष जोशी के अनुसार, फिलहाल दोनों की हालत सामान्य है, लेकिन एहतियात भी जरूरी है। डॉक्टरों की टीम दोनों का इलाज कर रही है। स्वास्थ्य विभाग सभी मरीजों की सेहत पर नजर रख रहा है। दोनों मरीजों को कई दिन पहले अस्पताल लाया गया था। अब उनकी एलाइजा रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। दून में डेंगू के अब तक तीन मामले सामने आ चुके हैं। इससे पहले वसंत विहार स्थित एक निजी स्कूल के शिक्षक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

शहरभर में फॉगिंग का है पूरा इंतजाम: खन्ना
मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अविनाश खन्ना के अनुसार, नगर निगम के पास 200 फॉगिंग मशीनें हैं। सभी वार्डों को एक-एक मशीन दी गई है। जिन गलियों में बड़ी गाड़ियां नहीं जा पा रही हैं, वहां दोपहिया से फॉगिंग की जा रही है। डेंगू का लार्वा नष्ट करने को वार्ड एवं पंचायतवार टीमें लगाई गई हैं। जिला मलेरिया नियंत्रण अधिकारी सुभाष जोशी के मुताबिक, दून में 100 क्यूआरटी हैं। सौ जगहों पर लार्वा नष्ट किया है।

अस्पतालों में बेड आरक्षित जांच की सुविधा उपलब्ध
सीएमओ डॉ. मनोज उप्रेती ने बताया कि सभी अस्पतालों में बेड आरक्षित कर आइसोलेशन वार्ड बना दिए गए हैं। दून, कोरोनेशन, गांधी, प्रेमनगर, रायपुर अस्पताल में डेंगू वार्ड बनाया गया है। दून, ऋषिकेश, कोरोनेशन, रायपुर, विकासनगर और प्रेमनगर में एलाइजा जांच की व्यवस्था है। बाकी जगह रैपिड टेस्ट हो रहे हैं। ब्लड बैंकों को प्लेटलेट्स की जरूरत पड़ने पर तैयार रहने को कहा गया है।

Check Also

विद्यालयों में एकल शिक्षक व्यवस्था होगी समाप्त, प्रत्येक 15 दिन में होगी आंतरिक परीक्षा

प्रदेश सरकार ने प्रारंभिक शिक्षा की दशा सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। राजकीय …