Breaking News
Home / Uttarakhand News / गतिविधियों के धरातलीय आधार पर सूक्ष्म नियोजन करते हुए कार्ययोजना तैयार करने के दिए निर्देश

गतिविधियों के धरातलीय आधार पर सूक्ष्म नियोजन करते हुए कार्ययोजना तैयार करने के दिए निर्देश

देहरादून । राज्य परियोजना कार्यालय सभागार में राज्य परियोजना निदेशक बंशीधर तिवारी, अपर राज्य परियोजना निदेशक डॉ0 मुकुल कुमार सती की उपस्थिति में समग्र शिक्षा के अन्तर्गत वार्षिक कार्ययोजना एवं बजट 2022-23 के लिए विभिन्न कार्यक्रमों/हस्तक्षेपों यथा बालिका शिक्षा, समावेशित शिक्षा, कस्तूरबा गांधी आवासीय छात्रावास, आवासीय एवं विद्यालय से बाहर रह गये बच्चों हेतु आवासीय-अनावासीय विशिष्ट प्रशिक्षण, शिक्षा का अधिकार, सामुदायिक सहभागिता आदि कार्यक्रमों को लेकर मीटिंग की गई।
इस मौके के लिए 5 जनपदों क्रमशः अल्मोड़ा, हरिद्वार, टिहरी एवं ऊधमसिंह नगर के अपर जिला परियोजना अधिकारी, माध्यमिक एवं बेसिक जिला समन्वयक को प्रभावी कार्ययोजना तैयार करने हेतु विस्तृत जानकारी प्रदान की गयी। राज्य परियोजना निदेशक, बंशीधर तिवारी द्वारा समस्त प्रतिभागियोें को समस्त गतिविधियों के धरातलीय आधार पर सूक्ष्म नियोजन करते हुए कार्य योजना तैयार करने हेतु निर्देशित किया गया। अपर राज्य परियोजना निदेशक, डॉ0 मुकुल कुमार सती द्वारा वार्षिक कार्य योजना एवं बजट 2022-23 के लिए समस्त गतिविधियों एवं कार्यक्रमों के योजना प्रारूप एव नियोजन सारणियों को विधिवत तैयार कर अपलोड किये जाने के साथ ही समयान्तर्गत भौतिक रूप से प्रस्ताव/योजना राज्य परियोजना कार्यालय को उपलब्घ कराने हेतु निर्देशित किया गया। कार्यक्रम में उप राज्य परियोजना निदेशक पल्लवी नैन द्वारा प्रतिभागियों से वर्ष 2021-22 में सम्पन्न हुई गतिविधियों एवं नवाचारी प्रयासों के फोटोग्राफ, उत्कृष्ट वीडियों केस स्टडी, आदि को उपलब्ध कराने हेतु निर्देशित किया गया ताकि सम्बन्धित सामाग्री शगुन पोर्टल पर यथासमय अपलोड की जा सके। समावेशित शिक्षा एवं विद्यालय से बाहर रह गये बच्चों हेतु आवासीय/अनावासीय विशिष्ट प्रशिक्षण, के अन्तर्गत उप राज्य परियोजना निदेशक आकाश सारस्वत एवं राज्य समन्वयक अंजुम फातिमा द्वारा विद्यालय से बाहर रह गये बच्चों हेतु नवीन नेताजी सुभाष चन्द बोस आवासीय विद्यालय एवं उनके उच्चीकरण तथा के0जी0बी0वी0 उच्चीकरण सम्बन्धी प्रस्तावतैयार कियेे जाने के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी प्रदान की गयी। साथ ही विशेष आवश्यकता वाले बच्चों हेतु नवाचारी योजनायें वार्षिक कार्य योजना में सम्मिलित करने हेतु कहा गया। बैठक में राज्य परियोजना कार्यालय से स्टाफ ऑफिसर, बी0पी0 मैन्दोली एवं समस्त उप परियोजना निदेशक, समन्वयक द्वारा प्रतिभाग किया गया।

Check Also

विद्यालयों में एकल शिक्षक व्यवस्था होगी समाप्त, प्रत्येक 15 दिन में होगी आंतरिक परीक्षा

प्रदेश सरकार ने प्रारंभिक शिक्षा की दशा सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। राजकीय …