Breaking News
Home / Uttarakhand News / आईपीएल की आलोचना पर भड़के गौतम गंभीर, बोले- टीम खराब खेल रही तो खिलाड़ी जिम्मेदार, लीग नहीं

आईपीएल की आलोचना पर भड़के गौतम गंभीर, बोले- टीम खराब खेल रही तो खिलाड़ी जिम्मेदार, लीग नहीं

गंभीर ने एक अवॉर्ड समारोह में कहा कि खराब प्रदर्शन के लिए आईपीएल को जिम्मेदार ठहराना गलत है। उन्होंने कहा कि आईसीसी इवेंट्स में भारतीय टीम अगर खराब प्रदर्शन करती है तो खिलाड़ियों को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए, न कि आईपीएल को।

टी20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में हार के बाद से टीम इंडिया आलोचकों के निशाने पर है। कई पूर्व क्रिकेटर्स ने टी20 फॉर्मेट में टीम को बदलने की मांग की है। वहीं, वसीम अकरम और वकार यूनुस जैसे पूर्व क्रिकेटर्स ने आईपीएल पर निशाना साधा था। अकरम ने कहा था कि आईपीएल के आने के बाद से टीम इंडिया कोई टी20 वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई है। वहीं, सुनील गावस्कर ने भी एक बयान में कहा था कि भारतीय खिलाड़ी वर्कलोड मैनेजमेंट के लिए आईपीएल की जगह अंतरराष्ट्रीय सीरीज को छोड़ रहे। आईपीएल की हो रही आलोचना पर गौतम गंभीर ने आलोचकों को करारा जवाब दिया है।

उन्होंने एक अवॉर्ड समारोह में कहा कि खराब प्रदर्शन के लिए आईपीएल को जिम्मेदार ठहराना गलत है। उन्होंने कहा कि आईसीसी इवेंट्स में भारतीय टीम अगर खराब प्रदर्शन करती है तो खिलाड़ियों को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए, न कि आईपीएल को।

‘आईपीएल को दोष देना गलत’

गंभीर ने कहा- आईपीएल सबसे अच्छी चीज है जो भारतीय क्रिकेट के साथ हुई है। मैं इसे अपनी पूरी समझ के साथ कह सकता हूं। आईपीएल के शुरू होने के बाद से इसे लेकर काफी प्रतिक्रिया आई हैं। हर बार जब भारतीय क्रिकेट अच्छा नहीं करता है, तो दोष आईपीएल पर आता है, जो उचित नहीं है। यदि हम आईसीसी टूर्नामेंट्स में अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं, तो खिलाड़ियों को दोष दें, प्रदर्शन को दोष दें, लेकिन आईपीएल पर उंगली उठाना अनुचित है।

‘आईपीएल में भी नियुक्त हों भारतीय कोच’

दो बार के विश्व कप विजेता गंभीर ने पिछले कुछ वर्षों में भारतीय कोच के नियुक्त किए जाने से काफी खुश हैं। उन्होंने टीम इंडिया के लिए भारतीय कोचों को नियुक्त करने के लिए बीसीसीआई की प्रशंसा की और आईपीएल में अधिक भारतीय कोचों को लाने की आवश्यकता पर जोर दिया।

‘भारतीय का कोच बनना जरूरी’

गंभीर ने कहा- भारतीय क्रिकेट में एक अच्छी बात यह हुई है कि भारत के पूर्व खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय क्रिकेट टीम को कोचिंग देना शुरू कर दिया है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि किसी भारतीय को ही टीम इंडिया का कोच होना चाहिए। ये सभी विदेशी कोच, जिन्हें हमने बहुत महत्व दिया है, यहां आते हैं, पैसा बनाते हैं और फिर गायब हो जाते हैं। खेल में भावनाएं महत्वपूर्ण हैं। भारतीय क्रिकेट के बारे में केवल वही लोग भावुक हो सकते हैं जिन्होंने अपने देश का प्रतिनिधित्व किया है।

2011 वर्ल्ड कप भारत ने गैरी कर्स्टन की देखरेख में जीता

गंभीर का यह बयान उस वक्त आया है जब भारत ने 2011 वनडे वर्ल्ड कप दक्षिण अफ्रीकी कोच गैरी कर्स्टन की देखरेख में जीता था। तब गंभीर भी टीम का हिस्सा थे। वहीं, 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीतने वाली टीम इंडिया के कोच जिम्बाब्वे के डंकन फ्लेचर थे। 2003 में फाइनल में पहुंचने वाली टीम इंडिया के कोच न्यूजीलैंड के जॉन राइट थे। वहीं, रवि शास्त्री की देखरेख में टीम इंडिया 2019 के वनडे वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में बाहर हुई थी।

2021 में टीम वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेली थी। वहीं, 2021 टी20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सुपर-12 स्टेज से ही बाहर हो गई थी। अनिल कुंबले की देखरेख में टीम इंडिया ने जरूर 2017 चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल खेला था, जबकि राहुल द्रविड़ की देखरेख में भारत 2022 टी20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पहुंचा। 2007 टी20 वर्ल्ड कप भारत ने लालचंद राजपूत की देखरेख में जीता था। वह तब टीम इंडिया के मैनेजर थे।

आईपीएल में कोच को लेकर गंभीर का बयान

गंभीर ने कहा- मैं लखनऊ सुपर जाएंट्स का मेंटर हूं। एक चीज जो मैं बदलना चाहता हूं वह यह है कि मैं सभी भारतीय कोचों को आईपीएल में देखना चाहता हूं, क्योंकि किसी भी भारतीय कोच को बिग बैश या किसी अन्य विदेशी लीग में मौका नहीं मिलता है। भारत क्रिकेट में एक महाशक्ति है, लेकिन हमारे कोचों को कहीं भी अवसर नहीं मिलता है। सभी विदेशी यहां आते हैं और शीर्ष नौकरियां प्राप्त करते हैं। हम अन्य लीगों की तुलना में अधिक लोकतांत्रिक और लचीले हैं। हमें अपने लोगों को अधिक अवसर देने की जरूरत है।

Check Also

Uttarakhand Weather: मैदान से लेकर पहाड़ तक बारिश, बर्फबारी से पारा धड़ाम, ठिठुरे लोग, इन जगहों पर ऑरेंज अलर्ट

राज्य में पश्चिमी विक्षोभ के एक बार फिर सक्रिय होने से राजधानी दून समेत पहाड़ …