Breaking News
Home / Uttarakhand News / जब भावुक हुए सीएम योगी: पैतृक गांव पहुंचकर किया गुरु महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण, अब मां से मिलेंगे

जब भावुक हुए सीएम योगी: पैतृक गांव पहुंचकर किया गुरु महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण, अब मां से मिलेंगे

यूपी में दोबारा सत्ता में आने के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने गांव आकर मां से आशीर्वाद लेने की बात कही थी। उनके आगमन को लेकर पूरे यमकेश्वर में उत्साह बना हुआ है। बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी बिथ्याणी जनसभा में उन्हें सुनने के लिए पहुंचे हैं।

उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ मंगलवार को पहली बार अपने पैतृक गांव यमकेश्वर के पंचूर पहुंचे। यहां उन्होंने सबसे पहले पंचूर से करीब तीन किमी दूर बिथ्याणी स्थित महायोगी गुरु गोरखनाथ राजकीय महाविद्यालय परिसर में उन्होंने अपने गुरु महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण किया। इस दौरान गुरु को यादकर सीएम योगी आदित्यनाथ की आंखें नम हुईं।

अनावरण कार्यक्रम के बाद अब वह अपनी मां सावित्री देवी से और परिजनों से मिलने घर जाएंगे। बेटे के गांव पहुंचने से यहां परिजन उत्साहित हैं। मंगलवार को जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगमन पर वित्त, शहरी विकास एवं आवास विधायी एवं संसदीय कार्य, पुनर्गठन एवं जनगणना मंत्री श्री प्रेमचन्द अग्रवाल ने स्वागत किया। इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ हेलीकॉप्टर से यमकेश्वर की ओर रवाना हुए।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तीन दिवसीय दौरे के लिए मंगलवार को उत्तराखंड पहुंचे। मंगलवार को वह पौड़ी (गढ़वाल) जिले के यमकेश्वर ब्लाक के अंतर्गत बिथ्याणी में अपने गुरु अवेद्यनाथ की प्रतिमा का लोकार्पण किया। दूसरी बार सीएम बनने के बाद योगी का यह पहला उत्तराखंड दौरा है। इस मौके पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौजूद रहे।

यमकेश्वर में उत्साह

योगी आदित्यनाथ के छोटे भाई महेंद्र बिष्ट ने बताया कि उनका मुख्य कार्यक्रम महाविद्यालय में है। यमकेश्वर में उच्च शिक्षा के लिए कोई संस्थान न होने पर वर्ष 2004-05 में महायोगी गुरु गोरखनाथ महाविद्यालय की स्थापना की गई थी। इसके बाद महाविद्यालय ने प्रांतीयकरण से लेकर राजकीयकरण तक का सफर तय किया। परिजनों ने बताया कि योगी आदित्यनाथ वर्ष 2017 में यूपी के सीएम बनने से पहले एक बार गांव आए थे। सीएम बनने के बाद वे उत्तराखंड तो कई बार आए, लेकिन गांव नहीं आ पाए थे।

20 अप्रैल, 2020 में उनके पिता आनंद सिंह बिष्ट का निधन हो गया था। तब कोरोनाकाल की व्यस्तताओं के कारण वे नहीं पहुंच सके थे। यूपी में दोबारा सत्ता में आने के बाद उन्होंने गांव आकर मां से आशीर्वाद लेने की बात कही थी। उनके आगमन को लेकर पूरे यमकेश्वर में उत्साह बना हुआ है। बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी बिथ्याणी जनसभा में उन्हें सुनने के लिए पहुंचे हैं। 

Check Also

विद्यालयों में एकल शिक्षक व्यवस्था होगी समाप्त, प्रत्येक 15 दिन में होगी आंतरिक परीक्षा

प्रदेश सरकार ने प्रारंभिक शिक्षा की दशा सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। राजकीय …